रविवार, 14 दिसंबर 2008

मेरा बचपन




मैं बैठता था गाँव की आहर के किनारे,
आती थी बगुलों की झुण्डें हजारों ।
चने के खेतों में फले हरे किशमिश के नाम,
कटता था मेरे बचपन में वो तपिश की शाम ।
देखता था पक्षियों को लौटते अपने घर को,
बैठा पानी में पैर लटकाये, निडर हो ।
बिल्कुल अनजाना सा निट्ठला सा और थोड़ी लापरवाही से,
मुझे क्या पता था घर में चिंतित होंगे सारे ।
पर, घर जाने से पहले एक भय घर कर जाता,
आज पिटाई होगी मेरी कल से भी ज्यादा ।
चुपके से जाकर, झट से पढ़ने बैठ जाता,
पर चाचा को वहाँ पहले से तैयार पाता ।
कान से शुरु होकर बात पीठ तक पहुँचती,
और, फिर न जाने की हिदायत, के बाद ही रुकती ।
अगले दिन शाम मैं फिर भूलकर सारी बातें,
चला जाता पनघट पर अपनी शामें बिताने ।
वक्त गुजरता गया, मैं सुधरता गया ?
पर इस सुधार में वो आनन्द कहाँ, जो बगुलों को देखने,
और फिर घर आकर पिटने में था ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बचपन आँखों के आगे घूम गया.....यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि आपकी कलम को माँ सरस्वती का आशीर्वाद है.......
    वो बगुलों वाली मासूमियत ही तो चाहिए,
    वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  2. "waqt gujarta gaya mai sudharta gaya"...is sudhar ne he to mujhe bigada hai,
    kal tak galiyo me ghoomne wala shaks aaj band kamre me bhi awara hai.

    rgds
    Aparna

    उत्तर देंहटाएं